Rahul gandhi bharat jodoyatra and nyay yatra analysis what congress and india bloc loss and profits allies seats


Lok Sabha Election Result 2024: लोकसभा चुनाव 2024 में कांग्रेस की सीटें बढ़ी हैं. इसको कांग्रेस नेता राहुल गांधी की यात्राओं से भी जोड़कर देखा जा रहा है. राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा और भारत जोड़ो न्याय यात्रा एक साल के अंतराल पर आयोजित की गई, जिसे मतदाताओं तक पहुंचने और राहुल गांधी की छवि बनाने की कवायद के तौर पर तैयार किया गया था. दोनों यात्राओं के रास्ते पर पड़ने वाले निर्वाचन क्षेत्रों में कांग्रेस और उसके मौजूदा इंडिया ब्लॉक सहयोगियों ने 41 सीटें हासिल कीं.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, सितंबर 2022 से जनवरी 2023 तक की पहली भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने 12 जनसभाओं, 100 से ज़्यादा नुक्कड़ सभाओं और 13 प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने 12 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों के 75 जिलों और 71 लोकसभा क्षेत्रों में 4,000 किलोमीटर से ज़्यादा की यात्रा की. जहां कन्याकुमारी से शुरू होकर कश्मीर में समाप्त हुई यह यात्रा 71 लोकसभा क्षेत्रों से होकर गुजरी, जिनमें से कांग्रेस ने इस बार 56 सीटों पर चुनाव लड़ा और 23 पर जीत हासिल की.

INDIA गठबंधन ने 14 सीटें पर लड़ा चुनाव, 6 पर जीत की हासिल

वहीं, भारत जोड़ो यात्रा यानी राहुल गांधी की पहली और दूसरी यानी भारत जोड़ो न्याय यात्रा में काफी फर्क भी देखने को मिला है. जहां साल 2019 में कांग्रेस ने इनमें से 65 सीटों पर चुनाव लड़ा और 15 पर जीत हासिल की थी. जबकि, इस बार कांग्रेस के इंडिया ब्लॉक सहयोगी इनमें से 14 सीटों पर चुनाव लड़े और 6 पर जीत हासिल की. साल ​​2019 में गठबंधन ने 71 सीटों में से 4 पर चुनाव लड़ा और 2 पर जीत हासिल की.  

हालांकि, कांग्रेस नेता राहुल गांधी की दूसरी भारत जोड़ो न्याय यात्रा मणिपुर से निकली और मुंबई पहुंच कर खत्म हो गई है. ये न्याय यात्रा भारत जोड़ो यात्रा से थोड़ी अलग रही, जिसमें राहुल गांधी ने लगभग 6,713 किलोमीटर की यात्रा की, जिसमें से ज्यादातर यात्रा बस से की. उनमें से 82 निर्वाचन क्षेत्रों में से, कांग्रेस ने 49 सीटों पर चुनाव लड़ा और 17 पर जीत हासिल की. जबकि, साल ​​2019 में, इसने 71 निर्वाचन क्षेत्रों में चुनाव लड़ा था, लेकिन केवल 6 पर जीत हासिल की थी.

दिल्ली की सभी 7 सीटों पर BJP पड़ी भारी

वहीं, दिल्ली में पहली यात्रा से कांग्रेस और उसके सहयोगियों को कुछ भी हासिल नहीं हुआ. 2019 में यात्रा ने जिन 5 सीटों को छुआ था, उनमें से कांग्रेस ने सभी सीटों पर चुनाव लड़ा था और हार गई थी. जबकि, इस चुनाव में उसने 5 में से 2 सीटों पर चुनाव लड़ा, जबकि बाकी तीन पर आप ने चुनाव लड़ा. गठबंधन सभी सीटें हार गया.  

महाराष्ट्र में 6 से 4 सीटें जीते में सफल रहा इंडिया गठबंधन

हालांकि, महाराष्ट्र में पहली यात्रा का असर यह हुआ कि 2024 में कांग्रेस और उसके सहयोगियों ने 6 सीटों में से 4 सीटें जीतीं. पांच साल पहले यूपीए ने ये सभी सीटें खो दी थीं. जबकि, दूसरी यात्रा में 8 निर्वाचन क्षेत्र शामिल थे, जिनमें से महा विकास अघाड़ी गठबंधन ने इस बार पांच सीटें जीतीं. वहीं, साल 2019 में इसने सभी सीटें खो दी थीं. वहीं, हरियाणा में, जहां पहली यात्रा ने 5 सीटों को कवर किया था, कांग्रेस 2019 में भाजपा के हाथों सभी सीटें हार गई थी. लेकिन इस बार, वह 5 सीटें जीतने में सफल रही.

कर्नाटक में 3 और केरल में 7 सीटें जीतने में रहे कामयाब

कर्नाटक में जहां पहली यात्रा ने सात सीटों को कवर किया था, कांग्रेस ने 5 सीटों पर चुनाव लड़कर कोई सीट नहीं जीती थी, जबकि उसकी सहयोगी जेडीएस ने दो सीटों पर चुनाव लड़कर एक सीट जीती थी. जबकि, 2024 में, कांग्रेस ने तीन सीटें जीतीं जब उसने सभी सात सीटों पर चुनाव लड़ा था. वहीं, केरल में जहां पहली यात्रा 11 निर्वाचन क्षेत्रों में गई, जिसमें से कांग्रेस ने 2019 में 10 सीटों में से 7 पर जीत हासिल की. ​​एक सीट सहयोगी आईयूएमएल ने जीती. जबकि, इस चुनाव में 11 सीटों में से, कांग्रेस ने सात सीटें जीतीं, जबकि उसके सहयोगियों ने 2 सीटें जीतीं.

राजस्थान में 3 सीटें पर कांग्रेस ने औऱ 2 पर अलायंस ने दर्ज की जीत

वहीं, राजस्थान में पहली यात्रा ने 5 निर्वाचन क्षेत्रों को कवर किया, जिसमें से कांग्रेस 2019 में ये सभी सीटें बीजेपी से हार गई थी, लेकिन इस बार 3 सीटें जीतकर वापसी करने में सफल रही. पार्टी ने दूसरी यात्रा के दौरान 2 सीटें हासिल कीं.2019 में वह दोनों सीटें हार गई थी और इस बार वह एक सीट जीतने में सफल रही, जबकि दूसरी सीट उसके सहयोगी दल ने जीती.

कांग्रेस और सपा का बेहतर रहा प्रदर्शन

जबकि, उत्तर प्रदेश में पहली भारत जोड़ो यात्रा में 3 सीटें और दूसरी यात्रा में 20 सीटें शामिल थीं. इस बार कांग्रेस और सहयोगी समाजवादी पार्टी (सपा) का प्रदर्शन बेहतर रहा. पहली यात्रा में शामिल 3 सीटों में से कांग्रेस 2019 में सभी सीटों पर हार गई, जबकि सपा ने इस बार एक सीट जीती. दूसरी यात्रा में शामिल 20 सीटों में से कांग्रेस ने 8 सीटों पर चुनाव लड़ा और 3 सीटें जीतीं जबकि सपा ने 12 सीटों पर चुनाव लड़ा और पांच सीटें जीतीं.

ये भी पढ़ें: लालकृष्ण आडवाणी का आशीर्वाद लेने उनके घर पहुंचे नरेंद्र मोदी, वीडियो में देखें कैसी रही मुलाकात



Source link

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *